सोम. सितम्बर 28th, 2020

सच्ची—मुच्ची

जिंदगी की खट्टी—मीठी

कोई आपको छोड़कर जा रहा तो यह उसकी बदनसीबी, आप अपनी ही ज़िंदगी का साथ मत छोड़िए…

किसी की ज़िंदगी की हक़ीकत जब ख़बर बनकर सामने आती है तो जाने कितनों की नींद उड़ा जाती है, वैसे…

error: Content is protected !!