जनरल बिपिन रावत का हेलिकॉप्टर क्रैश होने के कारणों का खुलासा, सामने आई यह जानकारी…

सीडीएस जनरल बिपिन रावत (CDS General Bipin Rawat) का हेलिकॉप्टर कैसे क्रैश हुआ, इसकी जानकारी सामने आ गई है। मामले की जांच के लिए गठित कोर्ट ऑफ इंक्वायरी की रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि खराब मौसम हादसे की वजह बना। एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह कमेटी ने जांच रिपोर्ट को लीगल विंग के पास भेजी है। जल्द ही यह रिपोर्ट वायुसेना (Air Force) प्रमुख को सौंपी जाएगी।

रिपोर्ट के बारे में अभी तक वायुसेना से आधिकारिक बयान नहीं आया है, लेकिन सूत्रों का कहना है कि खराब मौसम के चलते पायलट ‘डिसओरिएंट’ हो गए होंगे। इसके कारण ही हादसा हुआ। तकनीकी भाषा में इसे सीएफआईटी यानि ‘कंट्रोल्ड फ्लाइट इंटू टेरेन’ कहते हैं। वायुसेना की ट्रेनिंग कमान के कमांडिंग इन चीफ, एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह (Manvendra Singh) के नेतृत्व में रक्षा मंत्रालय (Ministry of Defence) ने एक ट्राई-सर्विस इंक्वायरी के आदेश दिए थे। यह कमेटी दुर्घटना के कारणों का पता लगा रही है। कमेटी ने अपनी रिपोर्ट फिलहाल लीगल विंग को सौंपी है।

जनरल बिपिन रावत, पत्नी मधुलिका समेत 14 की हुई थी मौत

आठ दिसंबर 2021 को हुए इस हादसे में सीडीएस जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत समेत कुल 14 की मौत हुई थी। हादसे के बाद से ही हर तरफ यह सवाल हो रहा था कि वायुसेना का ‘मी-17वी5’ हेलिकॉप्टर क्रैश हुआ कैसे? बता दें कि मी—14वी5 हेलिकॉप्टर में ही जनरल बिपि​न रावत समेत 14 लोग सवार थे। वायुसेना ने इस दुर्घटना की जांच के लिए कोर्ट ऑफ इंक्वायरी का गठन किया था।

प्रत्यक्षदर्शियों से भी की गई बात

सूत्रों के अनुसार, जांच कमेटी ने वायुसेना और थलसेना के अधिकारियों के बयान रिकॉर्ड किए हैं। साथ ही प्रत्यक्षदर्शियों से भी जानकारी जुटाई है, जो हादसे के समय मौके पर मौजूद थे। क्रैश से तुरंत पहले एक वीडियो शूट किया गया था, कमेटी ने उस मोबाइल की भी जांच की है, जिससे वीडियो बनाया गया था। क्रैश हेलिकॉप्टर का एफडीआर यानि फ्लाईट डेटा रिकॉर्डर, जिसे ब्लैक-बॉक्स भी कहा जाता है, को घटनास्थल से बरामद कर लिया गया था। ब्लैक बॉक्स का डेटा भी रिपोर्ट में शामिल किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.