Sunday with Shweta

Life tips | ज़िंदगी की खुशी से मुलाकात कराइए

ज़िंदगी से खुशी की कुछ यूं हुई मुलाक़ातकोई सुन भी न पाया बस ख़ामोशी से होती रही बात।जी हां, हाल ही में एक महाशय हमारे घर पधारे। हमने उनसे पूछा कि कैसे हैं आप, तो गरम गरम चाय पीते हुए बोले कि ठीक ही हैं, अब इस कोरोना काल में क्या ही अच्छे होंगे। फिर

मनोरंजन सितारे

Untold Story of शोमैन

कल खेल में, हम हों न होंगर्दिश में तारे रहेंगे सदाभूलोगे तुम, भूलेंगे वोपर हम तुम्हारे रहेंगे सदाहोंगे यहीं अपने निशां… इसके सिवा जाने कहां… वाकई, उन्होंने ठीक कहा था, उनके निशां हमेशा हमेशा के लिए यहां हैं। वैसे भी कलाकार मरते नहीं, अमर हो जाते हैं। तो आज बॉलीवुड के शोमैन राजकपूर साहब की

मनोरंजन

भारती की गिरफ्तारी से सबक

ब्रेकिंग न्यूज़- ‘‘कॉमेडी क्वीन भारती सिंह के घर से गांजा बरामद, एनसीबी ने किया भारती सिंह को गिरफ्तार’’ इस ब्रेकिंग न्यूज़ के बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने लिखना शुरू कर दिया कि बॉलीवुड से ब्रेकअप कर लो, भारती को अब कपिल शर्मा शो में काम नहीं मिलना चाहिए, और जाने क्या क्या। कोई मज़ाक

Sunday with Shweta

मन की फिटनेस के बारे में क्या ख्याल है?

हलो दोस्तों। हम सभी अपनी फिटनेस के लिए बहुत कुछ करते हैं। Fat To Fit की journey तय करने के लिए रात दिन एक कर देते हैं। अपनी ब्यूटी को किसी ड्यूटी की तरह लेते हैं और अपने रुप को भी बिल्कुल चकाचक बना कर रखते हैं। कुल मिलाकर अपने तन की काया के लिए

Sunday with Shweta

Happy Dussehra | आइए इन दस बुराइयों का दहन करें

आप सभी को आपकी इस सखी श्वेता और दोस्त UNBIASED INDIA की तरफ से रामनवमी और दशहरा की हार्दिक शुभकामनाएं! कुनकुनी ठंड ने दस्तक दे दी है। अक्टूबर जाने को है और नवंबर आने को है। कुछ महीनों में साल भी बदल जाएगा, लेकिन 2020 ने कोरोना काल बनकर जिस तरह हम सभी की ज़िंदगियों

Sunday with Shweta

हिचकी | फिल्म तो देखी आपने मगर सीखा क्या?

Developmental Language Disorder Awareness Day Special साल 2018 में रानी मुखर्जी की एक फिल्म आई थी हिचकी, जिसमें रानी मुखर्जी टोरैटे सिंड्रोम से जूझती नज़र आती हैं। पर आज मैं बात रानी मुखर्जी या फिर इस फिल्म के बारे मे नहीं करने वाली। न मैं आपसे कहूंगी की तारे ज़मीन पर फिल्म याद है आपको?

Sunday with Shweta

प्रेशर कुकर सी ज़िंदगी !

हलो दोस्तों, उम्मीद है कि आप सभी अपनी ज़िंदगी के हर एक पल को खुलकर जी रहे होंगे, बिना प्रेशर कुकर बने हुए। क्योंकि प्रेशर कुकर भी खाना पकने का सिग्नल सीटी बजाकर देता है न, और तब भी गैस बंद न करो तो क्या होता है, वो बताने की ज़रुरत नहीं।हमारी ज़िंदगी का भी

Sunday with Shweta ज़िंदगी.Com

LIFE tips | जब कोई बात बिगड़ जाए

‘थोड़ा सा रफू करके देखिएफिर से नई लगेगीज़िंदगी ही तो है’। गुलज़ार साहब की इन चंद पंक्तियों में ज़िंदगी की एक बहुत बड़ी Philosophy छिपी है। शायद ही किसी की भी ज़िंदगी ऐसी हो जहां सब कुछ बिल्कुल perfect हो। उतार- चढ़ाव तो आने ही हैं और आते भी रहेंगे। पर मुझे आज तक ये

Sunday with Shweta

संडे की सीक्रेट सलाह

दोस्तों, हम सभी की लाइफ में एक ऐसा पल ज़रुर आता है जब हमें लगता है कि कोई हमें आकर बताए कि हमें क्या करना चाहिए और क्या नहीं। कोई आकर बस ये कह दे कि जो तुम सोच रहे हो वो बिल्कुल ठीक है। या फिर कोई इंसान यही कह दे कि दौर कितना

Sunday with Shweta ज़िंदगी.Com

ज़िंदगी | NO MORE डरना—वरना…

फिल्म Mary Kom का एक डायलॉग है कि ‘किसी को इतना भी मत डराओ कि डर ही खत्म हो जाए’। बात तो सही है, फिर आखिर क्यों ये डर हमारे अंदर से खत्म नहीं होता? हम रात के अंधेरे से डरते हैं जबकि हम जानते हैं कि हर रात की सुबह ज़रुर होती है। हम

Sunday with Shweta

ज़िंदगी ज़िंदाबाद | ज़रा सी कोशिश और स्लिम ट्रिम सी ज़िदगी

ज़िंदगी, ज़िंदगी, ज़िंदगी। अचानक ही बहुत भारी सी लगने लगती है न, ऐसी जैसे जाने इसका वज़न अचानक बहुत बढ़ गया हो, और फिर लगने लगता है कि क्या करें कि ये थुलथुल से स्लिम ट्रिम लगने लगे। इतनी हल्की जैसे रुई का फाहा। इतनी नाजुक जैसे ओस की बूंद। इतनी मासूम जैसे बच्चे की

अंतरराष्ट्रीय विशेष

Teacher’s Day | 5 सितंबर को शिक्षक दिवस क्यों मनाते हैं?

गुरु कहें, शिक्षक कहें, सर कहें, मैडम कहें या फिर टीचर। अलग—अलग चेहरे हैं, अलग—अलग नाम हैं लेकिन सभी का काम एक, अपने शिष्य की ज़िंदगी में ज्ञान का दीप जलाना। उसे सही गलत की पहचान करना सिखाना और ये अहसास दिलाना कि शिक्षा और शिक्षक का साथ हमेशा उनके साथ है। तो आइए आपको

Sunday with Shweta

वाह! क्या बात है

आज है दमदार रविवार, तो मैंने सोचा कि क्यों न आपसे कुछ ऐसी दिलचस्प बातें शेयर की जाएं जिन्हें पढ़ने के बाद आप कहें कि अरे, ये तो मुझे पता ही नहीं था, या फिर अरे वाह, ये तो कमाल की बात है। तो चलिए बातों-बातों में आपको कुछ दमदार बातें बताती हूं। लिज्जत की

Sunday with Shweta

BEAUTY TIPS | … ताकि लॉकडाउन में भी जलवा बरकरार रहे

जब से कोरोना की हमारी लाइफ में एंट्री हुई है तब से हमारे और पार्लर के बीच भी नो एंट्री का बोर्ड लग गया है। अब सवाल ये उठता है कि अगर हम घर पर हैं तो क्या अपनी स्किन का ख्याल रखना बंद कर दें? जवाब है, बिल्कुल नहीं। इसीलिए तो संडे स्पेशल में

Sunday with Shweta ज़िंदगी.Com

Happy Sunday | घर ही नहीं, मन के भी खिड़की—दरवाजे खोलिए

पूरे हफ्ते की भागदौड़ के बाद आता है अपना कूल—कूल सा संडे। वैसे तो इस कोरोना काल में हर दिन ही संडे टाइप है फिर भी संडे तो संडे है। पर, कुछ लोग ऐसे भी हैं जिन्होंने ठान लिया है कि हर दिन को एक जैसा ही बनाना है। पर जनाब, पूरे हफ्ते में एक

error: Content is protected !!