<> … तो विकास दुबे का फर्जी एनकाउंटर किया गया? | UNBIASED INDIA >

… तो विकास दुबे का फर्जी एनकाउंटर किया गया?

कानपुर के बिकरू गांव में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में आरोपी पांच लाख का इनामी बदमाश विकास दुबे आज सुबह मारा गया। लेकिन, उत्तर प्रदेश सरकार और पुलिस इस मामले में कई तरह के आरोपों से घिरती नजर आ रही है। विकास दुबे के एनकाउंटर की पुलिसिया कहानी और साक्ष्य एक—दूसरे को खारिज कर रहे हैं, जिस आधार पर यह एनकाउंटर साफ तौर पर फर्जी प्रतीत हो रहा है। सोशल मीडिया पर भी #FakeEncounter हैश टैग ट्रेंड कर रहा है।

पुलिस की कहानी

पुलिस का कहना है कि एसटीएफ की टीम गैंगस्टर विकास को उज्जैन से लेकर कानपुर जा रही थी। कानपुर से 18 किलोमीटर पहले भौंती में गाड़ी पलट गई। गाड़ी में सवार विकास दुबे ने एक पुलिसकर्मी की पिस्टल छीन ली और हमलावर हो गया। पुलिस ने बचाव में गोली चलाई और विकास दुबे मारा गया।

मुठभेड़ पर सवाल

  • विकास दुबे ने बड़े आराम से उज्जैन में खुद को पुलिस के हवाले किया था। ऐसे में वह पुलिसकर्मी का पिस्टल छीनकर भागने की कोशिश क्यों करेगा?
  • विकास दुबे को तीन गोलियां सीने में और एक गोली हाथ में लगीं। सवाल है कि वह भाग रहा था ​तो गोलियां सीने में कैसे लगीं?
  • पुलिस का कहना था कि विकास की अस्पताल में मौत हो गई जबकि डॉक्टर का कहना है कि उसे मृत लाया गया था।
  • मुठभेड़ में तीन सिपाही घायल हुए हैं। दो पुलिसकर्मियों को गोली छूकर निकल गई है। सवाल है कि जब गोली दोनों तरफ से चली तो एकतरफा नुकसान क्यों हुआ?
  • आईजी मोहित अग्रवाल का दावा है कि उज्जैन से जिस गाड़ी से विकास चला, उसी गाड़ी से उसे कानपुर ले जाया जा रहा था यानि रास्ते में गाड़ी नहीं बदली गई। जबकि टोल प्लाजा के कैमरे कहते हैं कि रात 3:16 बजे झांसी, सुबह 4:50 बजे जालौन और 6:20 बजे कानपुर में विकास टाटा सफारी गाड़ी में सवार था। वहीं, मुठभेड़ स्थल पर जो गाड़ी पलटी है वह महिंद्रा एक्सयूवी है। अचानक टाटा सफारी महिंद्रा एक्सयूवी कैसे हो गई?
  • पुलिस के काफिले के पीछे—पीछे मीडिया की भी कुछ गाड़िया थीं। जहां हादसा हुआ है, वहां से कुछ दूर पहले उन्हें क्यों रोका गया?

इन सवालों का जवाब अब कौन देगा?

  • कानपुर में 8 पुलिसकर्मियों के मारने के बाद आखिरकार विकास दुबे उज्जैन कैसे पहुंचा? कौन-कौन से पुलिसवाले उसकी मदद कर रहे थे?
  • विकास दुबे के किन—किन दलों के किन—किन नेताओं से संपर्क थे? वे उसकी कैसे मदद करते थे और बदले में विकास उनके लिए क्या करता था?
  • माना जा रहा है कि विधानसभा चुनाव लड़ने की तैयारी कर था। उसके टिकट के लिए कौन पैरवी कर रहा था?
  • साल 2001 में दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री सुरेश शुक्ला की हत्या के मामले में जब वह बरी हुआ था तो किसके दबाव में इस मामले में दोबारा अपील नहीं की गई?
  • जब 7 राज्यों की पुलिस अलर्ट पर थी तो विकास किसी के गिरफ्त में क्यों नहीं आया? क्या उज्जैन में उसका समर्पण कराने में भी मिलीभगत थी?
  • सीओ देवेंद्र मिश्रा की उस कथित चिट्ठी का सच क्या था जिसमें पुलिस और विकास दुबे के गठजोड़ की बात कही थी। यह रिकॉर्ड में नहीं पाई गई।
  • वे कौन लोग थे जिनके दबाव में विकास दुबे का नाम जिले के भी टॉप-10 बदमाशों में शामिल नहीं था, जबकि उसके ऊपर 60 मुकदमे चल रहे थे?
Share this Article
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!