<>कंगना को फिर आया गुस्सा - UNBIASED INDIA >

कंगना को फिर आया गुस्सा

हिमाचल की ठंडी—ठंडी वादियों से एक लड़की मायानगरी मुंबई पहुंची। संघर्ष किया, नाम कमाया, वो मुकाम हासिल किया जिसका उसने सपना देखा था। जो भी उसे देखता कहता, कितनी प्यारी, नाजुक सी है ये लड़की। लेकिन, लेकिन, लेकिन.. उस लड़की ने जब गलत चीज़ों, बर्दाश्त न हो पाने वाले मुद्दों के खिलाफ आवाज़ उठानी शुरू की तो लोग पूछने लगे कि कंगना राणावत या क​हिए कि कंगना रनौत को गुस्सा क्यों आता है? खैर, कंगना को फिर गुस्सा आया है। अब कंगना का गुस्सा करण जौहर के धर्मा प्रोडक्शन की फिल्म ‘गुंजन सक्सेना: द करगिल गर्ल’ पर भड़का है।

कंगना ने ट्विटर पर एक शायरी लिखी है। यह शायरी करण जौहर पर लिखी गई है। कंगना ने लिखा-
‘करण जौहर पे शायरी अर्ज़ है…। हमें नैशनलिज्म की दुकान चलानी है मगर देश भक्ति नहीं दिखानी है। पाकिस्तान से वार वाली फ़िल्म बहुत पैसा कमाती है। हम भी बनायेंगे मगर उसका विलेन भी हिंदुस्तानी है। अब थर्ड जेंडर भी आर्मी में आ गया है मगर करण जौहर तू कब समझेगा एक सेनानी सिर्फ़ सेनानी है।

इसके अलावा कंगना ने एक ट्विट और किया और लिखा, ‘फिल्म में कई जगह गुंजन कहती हैं कि उन्हें अपने देश से प्यार नहीं है, वह केवल एक प्लेन उड़ाना चाहती हैं. फिल्म में गुंजन सक्सेना की असल देशभक्ति को नहीं दिखाया गया है। वह सिर्फ इतना कहती है- पापा मैं आपको निराश नहीं होने दूंगी.’

सड़क—2 के ट्रेलर पर भी आया गुस्सा

ऐसा नहीं है कि कंगना को गुस्सा अभी आया है। अक्सर कई ऐसे मुद्दे सामने आ ही जाते हैं जिन पर cool city की कंगना का दिमाग hot हो जाता है। इसके पहले कंगना महेश भट्ट की आने वाली फिल्म सड़क 2 का ट्रेलर देख भड़क उठी थीं। इसके एक डॉयलॉग ने उन्हें गुस्सा दिला दिया। दरअसल, फिल्म के एक ट्रेलर में आलिया भट्ट एक आध्यात्मिक गुरु की तस्वीर को देखकर कहती हैं, ‘इन गुरुओं की वजह से मैंने किसी अपने को खोया है।’ इस पर एक यूजर ने लिखा, ‘ट्रेलर में आलिया भट्ट कहती हैं कि इन गुरुओं की वजह से मैंने किसी अपने को खोया है, बस एक बार इसमें से गुरु शब्द हटाकर मौलवी या पादरी लगाकर देखिए महेश भट्ट? कोई चर्चा नहीं बस इसे हटाइये और ट्रेलर दोबारा लॉन्च करिए। बस इतनी सी मांग है।’

इस पर कंगना ने रिएक्शन देते हुए लिखा, ‘शानदार अवलोकन, क्या वो गुरु को मौलवी और कैलाश स्कैंडल को मक्का स्कैंडल से बदल सकते हैं? साधुओं की लिंचिंग की घटनाओं का इन्हीं पूर्वग्रहों से संबंध है? आखिर क्यों इन पाकिस्तानी एजेंटों को भारत में पूर्वाग्रह और धार्मिक विद्वेष फैलाने की इजाज़त है?’

नेपोटिज्म पर लगातार हमलावर हैं कंगना

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद जब नेपोटिज्म का मुद्दा उठा, तब कंगना खुलकर सामने आईं और उन्होंने साफ तौर पर कहा कि हां, बॉलीवुड में नेपोटिज्म है। जिसके बाद उन्हें कई बॉलीवुड सेलेब्स के साथ ट्विटर वॉर में शामिल होना पड़ा तो वहीं उनके फैंस ने उन्हें जमकर सपोर्ट किया। कंगना ने सुशांत के फेवर में एक कैंपेन भी चलाया।
इतना ही नहीं, जब आयुष्मान खुराना ने इस मामले में रिया चक्रबर्ती के पक्ष में बातें रखीं तो पहले कमाल आर खान ने एक ट्विट कर आयुष्मान को जवाब दिया, जिसके बाद कंगना ने बिना आयुष्मान का नाम लिए उन्हें चापलूस आउटसाइडर तक कह डाला।

साधुओं की हत्या पर बिफर पड़ी थीं

… और तो और, कश्मीर में जब सरपंच अजय पंडिता को आतंकियों ने मौत के घाट उतार दिया, तब बॉलीवुड की चुप्पी पर कंगना ने ख़ासी नाराज़गी जतायी। कंगना ने कहा कि सेकुलरिज्म का पाठ पढ़ाने वाले अब चुप हो गए हैं।
मेरठ की घटना पर भी कंगना चुप नहीं रहीं। मेरठ में जब एक पुजारी की पीट—पीटकर हत्या कर दी गई, तब भी कंगना ने ट्विट कर अपना गुस्सा ज़ाहिर किया था। कंगना ने लिखा है, ‘अगर निर्दोष आध्यात्मिक साधुओं की हत्याएं नहीं रुकती हैं, तो उनका अभिशाप इस देश की हर आशा को नष्ट कर देगा।’

Share this Article
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!