ज़िंदगी ज़िंदाबाद | ज़रा सी कोशिश और स्लिम ट्रिम सी ज़िदगी

ज़िंदगी, ज़िंदगी, ज़िंदगी। अचानक ही बहुत भारी सी लगने लगती है न, ऐसी जैसे जाने इसका वज़न अचानक बहुत बढ़ गया हो, और फिर लगने लगता है कि क्या करें कि ये थुलथुल से स्लिम ट्रिम लगने लगे। इतनी हल्की जैसे रुई का फाहा। इतनी नाजुक जैसे ओस की बूंद। इतनी मासूम जैसे बच्चे की हंसी, इतना प्यारा जैसे मां का प्यार। ख़ुद को फिट और एक्टिव रखने के लिए तो हम बहुत कुछ करते हैं, पर क्या हम अपनी ज़िंदगी को फिट रखने के लिए वो सब करते हैं जो इसके लिए ज़रुरी है?
अब आप कहेंगे कि ये कैसा सवाल, तो मैं कहूंगी की हां, सवाल तो आज का यही है कि …

ज़िंदगी को फिट, एक्टिव और सबसे important खुश रखने के लिए आप क्या करते हैं?

आज बहुत सारे लोग ऐसे दिखते हैं जो रात को सुबह काम और ऑफिस की टेंशन के साथ सोते हैं, और सुबह अधजगी सी हालत में तमाम उलझनों के साथ दिन की शुरुआत करते हैं। लेकिन क्यों…?
क्या ऐसा नहीं हो सकता कि आप सुबह एक प्यारी सी मुसकुराहट के साथ उठें, शीशे के सामने जाकर खड़े हों और कहें गुड मॉर्निंग ज़िंदगी, स्माइल करो और दिन भर मुस्कुराती रहो।
आंगन हो, छत हो या बालकनी या फिर छोटी सी खिड़की ही सही, उससे बाहर देखिए, खुली हवा को महसूस कीजिए। सुकून भरे संगीत को सुनते हुए सूर्य की किरणों का वेलकम कीजिए और ऐसे दिन की शुरुआत कीजिए।
24 घंटे, 1440 मिनट और 86,400 सेकेंड का एक दिन होता है। तो ऐसे में ये तो मुमकिन नहीं कि हर बात मनचाही ही हो। हमने अपने मन को भी बिल्कुल ऐसा बना लिया है कि ये मनचाहा होने पर जितना खुश होता है उससे ज्यादा परेशान तब हो जाता है जब इसके मन का कुछ न हो। ऐसी सिचुएशन में आपको बस कुछ बातें याद रखनी हैं, या फिर कह लीजिए फॉलो करने हैं ये टिप्स।

ज़िंदगी के Tips

• हमेशा याद रखिए कि कोई भी परिस्थिति हमेशा के लिए नहीं होती, अगर सुकून भरे पल ज्यादा देर के लिए नहीं रहे तो परेशानियां भी नहीं रहेंगी।

• P2 का फॉर्मूला हमेशा याद रखिए। यानी Problem के आने पर Panic नहीं होना है। क्योंकि अक्सर पैनिक होकर हम वो आसान सा रास्ता नहीं देख पाते जो हमें हमारी problem के solution तक पहुंचाता है।

• जिस तरह से किसी भी यात्रा के समय यात्री अपने सामान की सुरक्षा के लिए ख़ुद ज़िम्मेदार होते हैं, ठीक उसी तरह अपने मन को खुश रखने और तकलीफ देने के लिए भी आप ख़ुद ही ज़िम्मेदार हैं।

• अगर आप किसी कामयाब इंसान को देखकर खुद को looser मानने लगते हैं तो एक बार उस इंसान की success के पीछे छिपे struggle को ज़रुर जानने की कोशिश कीजिए।

• आप लगातार मेहनत कर रहे हैं और आपका बॉस या फिर घर का कोई सदस्य आपके उस काम के लिए आपकी तारीफ नहीं करते या क्रेडिट नहीं देते तो उदास होने की जगह ये सोचिए कि आप अपना बेस्ट अपनी satisfaction और perfection के लिए करते हैं न कि appreciation के लिए। अगर आप उम्मीद नहीं करते हैं तो आहत भी नहीं होंगे और बिना उम्मीद किए तारीफ मिल जाए तो सोने पर सुहागा।

• किसी की भी बातों या हालात की वजह से सपने देखना मत छोड़िए, आपके लिए सिर्फ ये ज़रुरी है कि आप खुद पर विश्वास करें। ‘YOU CAN DO IT’ सुनने की उम्मीद की जगह ‘I CAN DO IT’ ज़रुरी है।

…और अब आज की Secret Funny Tip

• अगर कोई आप पर बिना बात चिल्ला रहा है या गुस्सा कर रहा है, तो मूड ऑफ करने की जगह अपने फेवरेट कार्टून कैरेक्टर के बारे में सोचिए। आगे आप ख़ुद समझदार हैं।
… तो बस ज़िंदगी ओवरवेट न लगे इसलिए मन को खुश रखिए, अपनों के साथ बातें कीजिए, रिश्तों को वक्त दिजिए, फिर देखिएगा कैसे लगने लगेगी ज़िंदगी स्लिम ट्रिम।

Share this Article
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!