TODAY HISTORY | जब 1979 में मदर टेरेसा को शांति के लिए नोबेल पुरस्कार दिया गया

आज का इतिहास

17 अक्तूबर | आज का इतिहास

हर तारीख़ के साथ कुछ ऐसी घटनाएं जुड़ जाती हैं, जो उस दिन का इतिहास बन जाती हैं। तो आइए आपको बताते हैं वो घटनाएं जो इतिहास के पन्नों में आज की तारीख के नाम दर्ज हो गईं।

17 अक्तूबर को जन्मीं हस्तियां

• 1817 : अलीगढ़ ओरिएंटल कॉलेज के संस्थापक सर सैयद अहमद खां
• 1877 : भारतीय ईसाई महिला संत सिस्टर यूप्रासिआ
• 1892 : राजनीतिज्ञ और स्वतंत्र भारत के पहले वित्त मंत्री आर. के. शनमुखम चेट्टी
• 1923 : सुप्रसिद्ध उपन्यासकार शिवानी
• 1929 : ओडिशा के सुप्रसिद्ध कथाकार व साहित्यकार चंद्रशेखर रथ
• 1931 : नागालैंड के भूतपूर्व छठे मुख्यमंत्री एस. सी. जमीर
• 1936 : हिंदी के प्रसिद्ध साहित्यकार दूधनाथ सिंह
• 1955 : हिंदी फ़िल्मों की प्रसिद्ध भारतीय अभिनेत्री स्मिता पाटिल
• 1970 : भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी अनिल कुंबले

17 अक्तूबर को जिन हस्तियों की है पुण्यतिथि

• 1906 : व्यक्तिगत और काव्यात्मक ढंग से व्यावहारिक वेदांत को पढ़ाने के लिए विख्यात हिन्दू धार्मिक नेता स्वामी रामतीर्थ

17 अक्तूबर के उत्सव और दिवस

• राष्ट्रीय विधिक सहायता दिवस (सप्ताह)
• विश्व आघात दिवस

थोड़ी असरदार, थोड़ी दमदार घटनाएं

• 1870 : कलकत्ता बंदरगाह को एक संवैधानिक निकाय प्रबंधन के तहत लाया गया।
• 1888 : वैज्ञानिक थामस अल्वा एडिसन ने ऑप्टिकल फोनोग्राफ के पेटेंट के लिए आवेदन किया।
• 1912 : बुल्गारिया, यूनान और सर्बिया ने ओटोमन साम्राज्य के खिलाफ लड़ाई की घोषणा की।
• 1917 : प्रथम विश्व युद्ध में ब्रिटेन ने पहली बार जर्मनी पर हवाई हमले किए।
• 1933 : प्रसिद्ध वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन नाजी जर्मनी से अमेरिका चले गए।
• 1941 : द्वितीय विश्व युद्ध में पहली बार जर्मनी की पनडुब्बी ने अमेरिकी पोत पर हमला किया।
• 1979 : मदर टेरेसा को शांति के लिए नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया।
• 2000 : पश्चिम एशिया शांति वार्ता संपन्न, दोनों पक्ष बिल क्लिंटन के तीनों सूत्रों पर सहमत हुए।
• 2003 : चीन ने अंतरिक्ष में एशिया के पहले और विश्व में रूस के बाद तीसरे देश के रूप में मानव भेजने में सफलता प्राप्त की।
• 2003 : ब्रिटिश लेखक डीबीसी पियरे के पहले उपन्यास ‘वेरनारन गॉड लिटिल’ को प्रतिष्ठित बुकर पुरस्कार देने की घोषणा की गई।
• 2003 : पाकिस्तान में जैश-ए-मोहम्मद का एक नेता गिरफ़्तार।
• 2003 : पाकिस्तानी राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ़ की हत्या की साजिश रचने वाले तीन आरोपियों को 10 वर्ष की जेल की सज़ा।
• 2004 : न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री क्लार्क भारत पहुंची।
• 2004 : गुआंतानामो बे बंदीगृह में अमेरिकी सैनिकों द्वारा बंदियों को अमानवीय यातनाएं दिए जाने का रहस्योद्घाटन।
• 2007 : आयरिश लेखिका एनी एनराइट को उनके उपन्यास ‘द गेदरिंग’ के लिए बुकर पुरस्कार दिया गया।
• 2008 : एकाधिकार व प्रतिबंधित व्यापार आयोग ने निजी एयर लाइंस किंगफिशर और जेट एयरवेज के गठबंधन की जांच के आदेश किए।
• 2009 : हिंद महासागर में स्थित मालदीव ने पानी के अंदर दुनिया की पहली कैबिनेट बैठक कर सभी राष्ट्रों को ग्लोबल वार्मिंग के ख़तरे से आगाह करने की कोशिश की।

… तो ये हैं सत्रह अक्तूबर की वो चंद घटनाएं जिन्होंने इतिहास के पन्नों में ख़ुद को दर्ज किया। अपने सरोकार से जुड़े हर सच को नए अंदाज़ में जानने के लिए पढ़ते रहिए UNBIASED india.

Facebook Comments Box
17 October ka itihas 17 अक्तूबर का इतिहास 17th October History 17th October in History Aaj ka itihas History History of 17th October 2020 History Today Itihas Itihas Today Today in History Today in Indian History Today in World History Todays History Todays Itihas Unbiased History Unbiased India आज का इतिहास इतिहास इतिहास के झरोखों से इतिहास के झरोखों से 17 अक्तूबर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Related Posts

आज का इतिहास

TODAY HISTORY | जब चम्पारण सत्याग्रह के लिए ट्रेन से पटना पहुंचे महात्मा गांधी

10 अप्रैल | आज का इतिहास

हर तारीख़ के साथ कुछ ऐसी घटनाएं जुड़ जाती हैं, जो उस दिन का इतिहास बन जाती हैं। तो आइए आपको

आज का इतिहास

TODAY HISTORY | जब स्कॉटलैंड में 25 मार्च के बजाय 1 जनवरी से नए साल की शुरुआत हुई

1 जनवरी | आज का इतिहास

हर तारीख़ के साथ कुछ ऐसी घटनाएं जुड़ जाती हैं, जो उस दिन का इतिहास बन जाती हैं। तो आइए आपको

आज का इतिहास

TODAY HISTORY | जब इराक के पूर्व राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन को फांसी दी गई

30 दिसंबर | आज का इतिहास

हर तारीख़ के साथ कुछ ऐसी घटनाएं जुड़ जाती हैं, जो उस दिन का इतिहास बन जाती हैं। तो आइए आपको

आज का इतिहास

TODAY HISTORY | जब औरंगजेब की यातना के कारण शिवाजी के पुत्र संभाजी की मौत हो गई

28 दिसंबर | आज का इतिहास

हर तारीख़ के साथ कुछ ऐसी घटनाएं जुड़ जाती हैं, जो उस दिन का इतिहास बन जाती हैं। तो आइए आपको

error: Content is protected !!