स्नान, दान और ध्यान का पवित्र महीना कार्तिक मास शुरू

पर्व—त्योहार

शरद पूर्णिमा के बाद से कार्तिक का महीना लग जाता है। इस बार 1 नवंबर यानी आज से कार्तिक का महीना लग रहा है। इस महीने में भगवान विष्णु जल में निवास करते हैं, इसलिए इस माह में सुबह सवेरे स्नान करने बहुत फल मिलता है। कार्तिक महीने में तुलसी पूजा का विशेष महत्व है। इस पूरे महीने में माता तुलसी के सामने दीपक जलाया जाता है।
माता तुलसी की पूजा करने से बहुत फल मिलता है। चांद-तारों की मौजूदगी में सूर्योदय से पूर्व ही पुण्य प्राप्ति के लिए स्नान करना जरूरी होता है। इस महीने में तुलसी विवाह का आयोजन भी किया जाता है। कहते हैं कि तुलसी विवाह करने से पुण्यफल की प्राप्ति होती है। तुलसी विवाह से घर में सुख-समृद्धि आती है,एवं अखंड सौभाग्य की प्राप्ति होती है।तुलसी विवाह देव प्रबोधनी एकादशी के दिन होता है,जो कि अबकी बार 25 नवंबर को है।इस देव जगत पालनहार नारायण योग निद्रा से जागृत होंगे और समस्त संसार और अपनों भक्तों पर कृपा बरसाएँगे ।इस दिन तुलसी के पौधे का गमला सजाकर उसके चारों ओर ईख का मण्डप बनाकर उसके ऊपर ओढ़नी या सुहाग प्रतीक चुनरी ओढ़ाते हैं। तुलसी पूजन से पहले तुलसी पूजा के नियमों को भी जान लेना चाहिए।
इस बात का ध्यान रखें कि तुलसी पत्र को बिना स्नान किए  नहीं तोड़ना चाहिए। 
कभी भी शाम को तुलसी के पत्तों को शाम के समय तोड़ना नहीं चाहिए।  पूर्णिमा, अमावस्या, द्वादशी, रविवार व संक्रान्ति के दिन दोपहर दोनों संध्या कालों के बीच में तथा रात्रि में तुलसी नहीं तोड़ना चाहिए।किसी के जन्म के समय और मुत्यु के समय घर में सूतक लग जाता हैं, ऐसे में तुलसी को नहीं ग्रहण करें। क्योंकि तुलसी श्री हरि के स्वरूप वाली ही हैं।तुलसी को दांतों से चबाकर नहीं खाना चाहिए।

Facebook Comments Box
Kartik Maas 2020 Kartik Month 2020

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Related Posts

पर्व—त्योहार

Navratri | सिंह की सवारी करने वाली मॉं दुर्गा घोड़े पर क्यों आ रही हैं?

नवरात्रि के नौ दिनों में मॉं दुर्गा के नौ स्वरूपों की आराधना होती है। आम तौर पर सिंह पर सवार होने वालीं मॉं दुर्गा नवरात्रि

पर्व—त्योहार व्रत—उपवास

शारदीय नवरा​त्रि | संपूर्ण पूजन विधि, महात्म्य और शुभ मुहूर्त

आज से शारदीय नवरात्रि प्रारंभ हो रही है। वैसे नवरात्रि पितृ विसर्जन अमावस्या के दूसरे दिन से प्रारंभ होती है। परंतु, इस बार अधिकमास के

पर्व—त्योहार

इंदिरा एकादशी | पितरों को मोक्ष प्रदान करने वाली एकादशी

13 सितंबर 2020 को इंदिरा एकादशी है। पंचांग के अनुसार, इंदिरा एकादशी तिथि का प्रारंभ 13 सितंबर 2020 को रविवार प्रात: 04 बजकर 13 मिनट

पर्व—त्योहार

पितृ पक्ष 2020| 1 सितंबर से तर्पण, 17 सितंबर को विसर्जन

पितृ पक्ष अर्थात् पितरों को समर्पित पक्ष या पखवाड़ा। प्रतिवर्ष आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की 15 तिथियों को पितृ पक्ष या महालया के रूप

error: Content is protected !!