आज है योगिनी एकादशी, जानें इसका महत्व

पर्व—त्योहार

साल के बारह महीने में पड़ने वाली हर एकादशी का अलग—अलग महत्व होता है। किंतु आषाढ़ मास की एकादशी का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। इस माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि को योगिनी एकादशी कहा जाता है। इस बार योगिनी एकादशी आज अर्थात् 17 जून 2020 को है।

मान्यता के अनुसार, इस दिन व्रत रखने से भक्तों के ऊपर भगवान विष्णु की कृपा सदैव बनी रहती है। ऐसा माना जाता है कि इस एकादशी पर व्रत रखने से 88 हजार ब्राह्मणों को भोजन कराने के जितना पुण्य मिलता है। हिंदू धर्म में योगिनी एकादशी का खास महत्व होता है। इस दिन श्री हरि विष्णु की पूजा की जाती है, साथ ही पीपल के पेड़ की पूजा का भी विधान है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन व्रत रखने से व्रतियों के सभी पाप धुल जाते हैं और वो इस लोक के सभी सुख को भोगकर स्वर्ग की प्राप्ति करते हैं।

स्कंद पुराण में है वर्णन
पौराणिक मान्यता एवं कथा के अनुसार, हेम नाम का एक माली था जिसे शाप की वजह से कुष्ठ रोग हो गया था। एक ऋषि ने उससे योगिनी एकादशी व्रत रखने की सलाह दी, व्रत के प्रभाव से उस माली का कुष्ठ रोग ठीक हो गया और तभी से ये दिन इतना महत्वपूर्ण बन गया। इस व्रत का वर्णन स्कंद पुराण और महाभारत में भी मिलता है।

श्रीकृष्ण ने युधिष्ठिर को बताया महात्म्य
भगवान श्रीकृष्ण ने धर्मराज युधिष्ठिर को एक बार सभी एकादशी व्रतों के बारे में बताया था तभी उन्होंने युधिष्ठिर को योगिनी एकादशी के बारे में भी बताया था। भगवान श्रीकृष्ण ने युधिष्ठिर को बताया कि योगिनी एकादशी का जो कोई भी व्रत विधिवत रखता है, उसके संकट मिट जाते हैं। आरोग्य प्राप्त होता है और हर प्रकार की सुख शांति और समृद्धि आती है। यही इस व्रत का महत्व है और लाभ है। भगवान ने बताया कि युधिष्ठिर योगिनी एकादशी का व्रत करने और प्रभु की उपासना करने से सभी प्रकार के पापों का नाश हो जाता है। इतना ही नहीं अंत काल में व्यक्ति को मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस व्रत की महिमा तीनो लोक में बताई गई है।

करना चाहिए दान
एकादशी की पूजा भगवान विष्णु के लिए की जाती है। इस दिन व्रत और विधिवत पूजा करके नारायण को प्रसन्न किया जाता है। साथ ही इस दिन अपने इष्टदेव की पूजा अर्चना भी की जाती है। पूजा के बाद इस दिन किया जाने वाला दान श्रेष्ठ माना गया है। इस दिन जरूरतमंदों की वस्त्र, धन और अन्न से मदद करनी चाहिए..ऐसे सत्कर्मों से प्रभु प्रसन्न होते हैं और दैनिक जीवन में आने वाली परेशानियों को दूर करते हैं।

इस तरह करें पूजन
योगिनी एकादशी के दिन सुबह घर की साफ-सफाई करें और फिर स्नान करके स्वच्छ कपड़े पहन लें। इसके बाद भगवान विष्णु को फूल, अक्षत, नारियल और तुलसी पत्ता अर्पित करें। पीपल के पेड़ की भी पूजा करें। योगिनी एकादशी व्रत की कथा सुनें और अगले दिन परायण कर दें। एकादशी पर भगवान विष्णु के साथ ही देवी लक्ष्मी का भी अभिषेक करें।

Facebook Comments Box
Ekadashi Hindu Lord Krishna Lord Vishnu Sanatan Dharma Skand Puran Yoigini Ekadashi भगवान विष्णु भगवान श्रीकृष्ण योगिनी एकादशी सनातन धर्म हिंदू संस्कृति

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Related Posts

पर्व—त्योहार

Navratri | सिंह की सवारी करने वाली मॉं दुर्गा घोड़े पर क्यों आ रही हैं?

नवरात्रि के नौ दिनों में मॉं दुर्गा के नौ स्वरूपों की आराधना होती है। आम तौर पर सिंह पर सवार होने वालीं मॉं दुर्गा नवरात्रि

पर्व—त्योहार व्रत—उपवास

शारदीय नवरा​त्रि | संपूर्ण पूजन विधि, महात्म्य और शुभ मुहूर्त

आज से शारदीय नवरात्रि प्रारंभ हो रही है। वैसे नवरात्रि पितृ विसर्जन अमावस्या के दूसरे दिन से प्रारंभ होती है। परंतु, इस बार अधिकमास के

पर्व—त्योहार

इंदिरा एकादशी | पितरों को मोक्ष प्रदान करने वाली एकादशी

13 सितंबर 2020 को इंदिरा एकादशी है। पंचांग के अनुसार, इंदिरा एकादशी तिथि का प्रारंभ 13 सितंबर 2020 को रविवार प्रात: 04 बजकर 13 मिनट

error: Content is protected !!