Navratri | सिंह की सवारी करने वाली मॉं दुर्गा घोड़े पर क्यों आ रही हैं?

पर्व—त्योहार

नवरात्रि के नौ दिनों में मॉं दुर्गा के नौ स्वरूपों की आराधना होती है। आम तौर पर सिंह पर सवार होने वालीं मॉं दुर्गा नवरात्रि में दिन के हिसाब से अलग सवारी से आती हैं। यह दिन कलश स्थापना से तय होता है। जिस दिन कलश स्थापना होती है, मां उस दिन के हिसाब से सवारी का चयन करती हैं। मां किस सवारी से आ रही हैं, इससे तय होता है कि मां के आगमन का प्रभाव क्या होगा!

कैसे जानें किस वाहन से आ रहीं मां दुर्गा

निश्चित तौर पर मां के विशेष वाहन से आगमन का महत्व होता है और इसी से आगमन का फल भी निर्धारित होता है। किंतु, यह कैसे जानें कि मां किस नवरात्रि में किस वाहन से आ रही हैं। आचार्य राजेश बताते हैं कि यदि रविवार या सोमवार को कलश स्थापना होती है तो माता हाथी पर सवार होकर आती हैं। मंगलवार और शनिवार को कलश स्थापना होने पर माता घोड़े पर सवार होकर आती हैं। गुरुवार और शुक्रवार को कलश स्थापना हुई तो माता की सवारी डोली होती है। बुधवार को कलश स्थापित किए जाने पर माता नौका पर सवार होकर इस धरती पर अपने पावन कदम रखती हैं। चूंकि इस बार कलश स्थापना शनिवार को हो रहा है, अत: मां का वाहन घोड़ा है। तात्पर्य यह है कि इस बार माता रानी घोड़े पर सवार होकर धरती पर आ रही हैं।

घोड़े से मां का आना शुभ संकेत नहीं

कहा जाता है मां का धरती पर आगमन जिस सवारी से होता है, उसी के फलस्वरूप धरती के भविष्य का निरूपण किया जाता है। इस बार दुर्गा मां मां की सवारी घोड़ा होने के कारण शुभ संकेत नहीं माना जा रहा है। आचार्य राजेश के अनुसार, इस वर्ष पड़ोसी देशों से युद्ध की आशंका बनी रहेगी। देश की सत्ता में उथल-पुथल मची रहेगी। धरती पर रोग और और शोक का वातावरण रहेगा। आंधी—तूफान की भी आशंका रहेगी।

Facebook Comments Box
Happy Navratra Navratra 2020 Navratri Shubh Navratri 2020 घोड़े पर आने का अर्थ क्या है नवरात 2020 नवरात्र 2020 नवरात्रि नवरात्रि 2020 मां के घोड़े से आने का क्या होगा प्रभाव शुभ नवरात्रि 2020

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Related Posts

पर्व—त्योहार व्रत—उपवास

शारदीय नवरा​त्रि | संपूर्ण पूजन विधि, महात्म्य और शुभ मुहूर्त

आज से शारदीय नवरात्रि प्रारंभ हो रही है। वैसे नवरात्रि पितृ विसर्जन अमावस्या के दूसरे दिन से प्रारंभ होती है। परंतु, इस बार अधिकमास के

पर्व—त्योहार

इंदिरा एकादशी | पितरों को मोक्ष प्रदान करने वाली एकादशी

13 सितंबर 2020 को इंदिरा एकादशी है। पंचांग के अनुसार, इंदिरा एकादशी तिथि का प्रारंभ 13 सितंबर 2020 को रविवार प्रात: 04 बजकर 13 मिनट

पर्व—त्योहार

पितृ पक्ष 2020| 1 सितंबर से तर्पण, 17 सितंबर को विसर्जन

पितृ पक्ष अर्थात् पितरों को समर्पित पक्ष या पखवाड़ा। प्रतिवर्ष आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की 15 तिथियों को पितृ पक्ष या महालया के रूप

error: Content is protected !!