मैं ज़िंदगी का दीया जलाती हूं!

समाचार सृजन
अंजली

जिंदगी को जब मैं अपने रंग दिखाती हूँ,
वो दीया बुझाती हैं, मैं दीया जलाती हूं!

मैं उदास रातों में ढूंढ़ती हूं ख़ुद को ही,
जब कहीं नही मिलती, थक के सो जाती हूँ!

कुछ नजर नहीं आता मुझे अँधेरे में,
कौन है जिसे अपनी उंगलियां थमाती हूँ!

खुशबू आती है, जिसके पास आने से,
जानती नहीं लेकिन रोज मिल के आती हूँ!

रोशनी का इक दरिया बह रहा है सदियों से,
तैरती हूँ मैं जिसमें और डूब जाती हूं!

जिन्दगी की इक अजब आदत आ गई मुझमें,
जो मुझे रुलाते हैं, मैं उन्हें हँसाती हूँ!!

(छपरा, बिहार की रहने वाली अंजली की साहित्यिक अभिरुचि है और वह काव्य मंचों पर सक्रिय रहती हैं। अंजली ने अपनी यह रचना UNBIASED india के साथ साझा की है।)

Facebook Comments Box
Anjali Poetry Lamp of Life Poetry of Anjali Shayara Shayari Unbiased Poetry

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Related Posts

समाचार सितारों की चाल

16 जनवरी 2021 | आज का पञ्चाङ्ग और राशिफल

ॐ श्री गणेशाय नमःश्री विक्रम संवत : 2077ऋतु : हेमन्तमास : पौषपक्ष : शुक्ल पक्षतिथि : तृतीया तिथि, प्रातः 08:35 बजे तक,उपरान्त चतुर्थी तिथिनक्षत्र :

दैनिक पंचांग समाचार

16 नवंबर 2020 | आज का पंचांग

विषयों और वस्तुओं के प्रमुख पांच अंगों को पंचांग कहते हैं। ज्योतिष शास्त्र के ये पांच अंग हैं— तिथि, वार, नक्षत्र, योग और करण।आचार्य राजेश

सृजन

Daughter’s Day | बेटियां

माधुरी सिंह

चिड़ियों की झुंड सीचहचहाती हैं बेटियां,पगडंडियों पर नीले—पीले आंचल उड़ाती हैं बेटियां!आंगन की तुलसी बन घर को महकाती हैं बे​टियां,हंसी—ठिठोली कर सबका मन बहलाती

error: Content is protected !!